Category Archives: मुजफ्फरनगर

स्कूलों और मदरसों में सुनाई दे रही है बच्चों की चीखें

हिंसा और तनाव के दौर के बाद दंगा प्रभावित इलाकों में धीरे-धीरे शांति लौट रही है। मगर दहशत भरे इन चंद दिनों ने हजारों बेबस लोगों को अपना आशियाना छोड़ने पर मजबूर कर दिया। ऐसे लोगों में गम और गुस्से का माहौल है। प्रशासन ने भी माना कि 38 शरणार्थी शिविरों में 41 हजार से अधिक लोग आ गए हैं। ... Read More »

हाईकोर्ट ने मांगा अखिलेश सरकार से जवाब

उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर सहित उसके आसपास के जिलों में फैली सांप्रदायिक हिंसा पर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब मांगा है। कोर्ट ने सरकार को दो माह की लंबी मोहलत देते घटना से संबंधित समस्त ब्यौरा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। याचिका पर सुनवाई 18 नवंबर को होगी। रावेंद्र रजौरिया द्वारा दाखिल जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए ... Read More »

वहशी थे हत्यारे, अधिकतर कत्ल चाकू से

एक या दो नहीं बल्कि 43 लाशें गिर गईं। वह भी बेहद खौफनाक तरीके से। पोस्टमार्टम रिपोर्ट बताती है कि हत्यारे वहशी हो गए थे। चाकुओं के वार से इंसान छलनी कर दिए गए। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक अधिकतर कत्ल धारदार हथियारों से बेरहमी से किए गए हैं। मृतकों के शरीर पर चाकू-छुरी के निशान हैं। वहशी अंदाज में एक ... Read More »

उन दो लड़कियों से बस स्टॉप पर अक्सर होती थी छेड़खानी

जिले में हुई सांप्रदायिक हिंसा के केंद्र में जो 2 लड़कियां थीं, वे स्कूल छोड़ने पर विचार कर रही हैं। बताया जा रहा है कि हाल में हुई घटना के बाद वे अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं। 14 साल की सीमा और 16 साल की पूनम (दोनों नाम काल्पनिक) से छेड़खानी के विवाद के बाद हिंसा ने व्यापक रूप ... Read More »

लापता लोगों को नहीं तलाश रही पुलिस

जौली गंगनहर पुल पर फायरिंग, पथराव व वाहनों में आग लगाने की घटना के बाद लापता हुए लोगों को प्रशासन व पुलिस तलाश करने में रुचि नहीं ले रहा है जिससे ग्रामीणों में आक्रोश पनप रहा है। शनिवार को जौली गंगनहर पर महापंचायत से लौट रहे ग्रामीणों पर हमलावरों ने फायरिंग व पथराव किया था। आगजनी कर उनके दर्जनों ट्रैक्टर ... Read More »

अभी भी बाज नही आई अखिलेश सरकार रुकवाया तलाशी अभियान

रमाला थाना क्षेत्र के किरठल गांव में पुलिस को सर्च अभियान के दौरान एके-47 के 41 कारतूस बरामद हुए हैं, जिसके बाद पुलिस ही नहीं खुफिया एजेंसियों के भी कान खड़े हो गए। सवाल यह है कि कहीं किरठल में एके-47 रायफल तो नहीं है और यदि यह हथियार है तो वह कहां से आया है और कौन लेकर आया ... Read More »

उम्मीद की किरण बनी फौज, मुजफ्फरनगर दंगा

दंगे की आग में झुलस रहे मुजफ्फरनगर-शामली को अंत में फौज के हवाले करना पड़ा। आम नागरिकों के जहन से अपना इकबाल खो चुकी पुलिस और प्रशासन के बीच फौज उम्मीद की किरण बनकर आई। फौज ने कमान संभालते ही क्षेत्र में बड़ी सूझबूझ से पकड़ मजबूत की। शहर से लेकर गांव तक के तनावग्रस्त इलाकों में फ्लैग मार्च कर ... Read More »

बागपत में हिंसा, मुजफ्फरनगर शांत

मुजफ्फरनगर में चार दिनों से जारी खून खराबे के बाद बुधवार को जनजीवन पटरी पर लौटता दिख रहा है। पांचवें दिन किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है। हालांकि बागपत में दो समुदायों के बीच फिर हिंसा ‌भड़क उठी। इस हिंसा में एक कांस्टेबल जख्मी हो गया। इस बीच जौली उपद्रव में लापता किसान का शव बुधवार को जटवाड़ा नहर ... Read More »

सामने आया दंगे में मारे गए लोगों के आंकड़ों में बड़ा ‘खेल’

मुजफ्फरनगर हिंसा में मारे गए लोगों के आंकड़ों में बड़ा खेल सामने आया है। 12 शवों को अपराध से जोड़कर उन्हें अलग किए जाने की माथापच्ची चल रही है। हैरत की बात तो यह है कि इनमें से अधिकांश शव दंगा प्रभावित इलाकों से बरामद हुए हैं। मिसिंग के सच को प्रशासन स्वीकार करने से कतराता रहा है। सवाल उठता ... Read More »

10,000 से भी ज्यादा विस्थापित

मुजफ्फरनगर में अब धीरे-धीरे शांति लौट रही है। बुधवार को यहां से किसी भी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली। मगर दहशत भरे इन चंद दिनों ने हजारों बेबस लोगों का अपना आशियाना छोड़ने पर मजबूर कर दिया। ऐसा बताया जा रहा है कि दंगों के कारण 10,000 से भी ज्यादा लोगों को विस्थापन का दर्द झेलना पड़ा है। दंगों ... Read More »