सपा नेताओं के पैर छूकर नौकरी कर रहे यूपी के आइपीएस

कानून व्यवस्था को लेकर निशाने पर रहने वाली यूपी पुलिस नए विवाद में फंसती नजर आ रही है। विभाग के ही डिप्टी एसपी रैंक के एक अफसर ने डीजीपी सहित तमाम अफसरों पर रिश्वत लेकर ट्रांसफर- पोस्टिंग करने का सनसनीखेज आरोप लगाया है। अलीगढ़ पीएसी में उप सेनानायक के पद पर तैनात इस अधिकारी ने यहां तक कह डाला कि आइपीएस अधिकारी सपा के बड़े नेताओं के पैर छूकर नौकरी कर रहे हैं। देर रात पुलिस विभाग ने गंभीर आरोप लगाने वाले अधिकारी वीके शर्मा को निलंबित कर दिया। आईजी बीपी सिंह ने शर्मा के आरोपों को आधारहीन बताया है। आरोप लगाने वाले वीके शर्मा गत वर्ष दिसंबर में बुलंदशहर से पदोन्नत होकर क्षेत्राधिकारी, फतेहगढ़ बनाए गए थे।

11 माह में वह फतेहगढ़ से पीएसी अलीगढ़, गाजीपुर, एटा से होते हुए इस समय अलीगढ़ पीएसी में हैं। नोएडा में आयोजित फार्मूला वन कार रेस में ड्यूटी के बाद सोमवार को शर्मा बुलंदशहर में थे। पत्रकारों से बातचीत में शर्मा के दिल का गुबार बाहर आ गया। उन्होंने कहा, जब सुप्रीम कोर्ट के नियमानुसार दो साल से पहले तबादले पर रोक है तो किस आधार पर उनके 11 माह में पांच तबादले किए गए। उनका तबादला बार-बार इसलिए किया गया, क्योंकि डीजीपी समेत तमाम आला पुलिस अधिकारी अच्छी पोस्टिंग के लिए उनसे रिश्र्वत चाहते हैं। शर्मा ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश का पुलिस महकमा भ्रष्टाचार में आकंठ डूबा है। [Jagran]

One comment

  1. police officers ka is tarah gulami me rehan me samjhta hu ki loktantra me sabse bada khatra hai. yeh mulayam ka beta aisa ho sakat hai yeh janta ne kabhi nahi socha the likin yeh to to apne baap ka bhi baap nikla.Khair janta ne galti to kar he di daro nahi BSP hai na is gunda raj ko jaldi hi khatam kar degi.

    gOOD morning

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*