आरएसएस के कट्टरवादी एजेंडे को लागू करने के लिए जेएनयू को देश विरोधी साबित करने की कोशिश

आरएसएस के कट्टरवादी एजेंडे को लागू करने के लिए जेएनयू को देश विरोधी साबित करने की कोशिश

बहन मायावती जी ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार आरएसएस के कट्टरवादी एजेंडे को लागू करने के लिए जेएनयू को देश विरोधी साबित करने की कोशिश कर रही है।

उन्होंने विवि छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की देशद्रोह की धारा में गिरफ्तारी की निंदा की है।

बहन मायावती जी ने यहां जारी एक बयान में कहा कि कन्हैया की गिरफ्तारी पहली नजर में ही गलत प्रतीत होती है। इस धारा का इस्तेमाल दिल्ली पुलिस शायद इतनी जल्द नहीं करती, लेकिन राजनीतिक दबाव में उसने यह काम किया।

बहन मायावती जी ने कहा कि भाजपा की केंद्र व राज्य सरकारें टाडा कानून के गलत इस्तेमाल के लिए काफी बदनाम हैं। लेकिन अब ऐसा लगता है कि मोदी सरकार ने विरोधियों के लिए देशद्रोही घोषित करने का नया कानूनी हथियार ढूंढ लिया है।

उन्होंने कहा कि सरकार जेएनयू को बर्बाद करने पर तुली है। एबीवीपी के छात्र भी इसके छात्रसंघ में निर्वाचित पदाधिकारी हैं।

बहन मायावती जी ने कहा कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी में दलित शोध छात्र को आत्महत्या के लिए मजबूर करने से लेकर जेएनयू तक के मामले में जिस तरह से केंद्रीय मंत्री की नकारात्मक भूमिका सामने आई है, वह खतरनाक है।

यह कैसी देशभक्ति
बहन मायावती जी ने कहा कि एक तरफ केंद्र सरकार अफजल को शहीद बताने पर जेएनयू के लोगों को गिरफ्तार कर रही है।

दूसरी ओर भाजपा जम्मू-कश्मीर में उस पीडीपी के साथ फिर सरकार बनाने में लगी है जिसने अफजल को शहीद बताकर फांसी देने विरोध किया। यह कैसी विचित्र देशभक्ति है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*