कानून व्यवस्था पर बसपा का विप से बहिर्गमन

इटावा में छह लोगों की हत्या समेत प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर बहुजन समाज पार्टी ने बुधवार को विधान परिषद से बहिर्गमन किया।

सदन में नेता विरोधी दल नसीमुद्दीन और बसपा के अन्य सदस्यों ने शून्य काल में यह मामला उठाते हुए कार्यवाही रोककर चर्चा कराए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के गृह जिले में ही एक परिवार के छह लोगों की हत्या कर दी गई और बदायूं में पुलिस चौकी के भीतर एक बालिका से दुराचार हुआ। सिर्फ इटावा के आंकड़े ही प्रदेश के हालात को बताने के लिए पर्याप्त हैं जहां अप्रैल माह में 12 हत्या, 13 लूट, चार बलात्कार और तीन अपहरण की घटनाएं हुई। मई माह में यह संख्या और बढ़ गई, अब तक 24 हत्या, 23 लूट, पांच बलात्कार और छह अपहरण हो चुके हैं। ऐसी स्थिति में इस विषय पर चर्चा जरूरी है। सुनील चित्तौड़ ने टीईटी अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज का मामला भी उठाया।

नेता सदन अहमद हसन की नामौजूदगी में वरिष्ठ मंत्री बलराम यादव ने स्पष्ट किया कि इटावा में एक ही परिवार के छह लोगों की हत्या आपसी रंजिश का परिणाम है। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सभापति ने सरकार को निर्देश दिया कि कानून व्यवस्था से जुड़े मामलों में कड़ी कार्रवाई की जाए। [Jagran]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*