गोरक्षा के नाम पर दलितों और मुस्लिमो को मारना भाजपा को भारी पड़ने लगा|  दलित मुस्लिम एक हुये

गोरक्षा के नाम पर दलितों और मुस्लिमो को मारना भाजपा को भारी पड़ने लगा| दलित मुस्लिम एक हुये

यूपी में गोरक्षा के मुद्दे ने दलितों और मुस्लिमों को गोलबंद कर दिया है जिसका फायदा बीएसपी को आने वाले चुनाव में मिल सकता है। यूपी में दलित और मुस्लिम वोटर्स एक नए चुनावी समीकरण के तौर पर उभर रहे हैं। बीजेपी यूपी में अपनी प्रतिद्वंद्वी पार्टी बीएसपी के दलित वोट में सेंध लगाने की कोशिश में है, ऐसे में बी जे पी और आर एस एस को सोची समझी
रणनीति से पैदा किये गये गोरक्षक दलों को दलित और मुस्लिम समझ गये है| दलित और मुस्लिम का एक साथ आना बीजेपी के लिए चिंता का सबब बन रहा है। दलित-मुस्लिम गठजोड़ से बीएसपी काफी मजबूत स्थिति में पहुंच गई है।
बीजेपी का गोरक्षा का एजेंडा राम मंदिर के एजेंडे के विपरीत बीजेपी को नुकसान पहुंचा रहा है। राम मंदिर के मुद्दे से जहां बीजेपी सारे हिंदुओं को ध्रुवीकृत करने में सफल रही थी वहीं गोरक्षा का मुद्दा हिंदुओं से दलितों को अलग-थलग कर रहा है।

कुछ महीनों पहले, बीजेपी ने दावा किया था कि समाजवादी पार्टी 2017 में होने वाले यूपी चुनाव में इसकी मुख्य प्रतिद्वंद्वी पार्टी होगी। लेकिन अब स्थिति कुछ और है। अब बीजेपी के मासने बीएसपी एक बड़ी चुनौती पेश कर रही है। बीजेपी यूपी नेता दयाशंकर सिंह के मायावती और दलितों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी, गुजरात के ऊना में गोरक्षकों के एक दलित को बेरहमी से पीटना, यूपी में दलितों के खिलाफ बढ़ रहे अत्याचार, ये सब ऐसी घटनाएं हैं जिन्होंने बीएसपी सुप्रीमो मायावती के दलित समर्थकों में फिर से जान फूंक दी है और पहले से ही भारी पड रही बसपा को और मजबूत स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया है।

One comment

  1. dalit santram dohare

    namo buddhay .jay bodhisatw bheem. jay bharat

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*