यमुना एक्सप्रेस-वे के आगे सब होंगे बौने

ग्रेटर नोएडा अगले 15-20 सालों में बड़े शहरों के मामले में आपको अपना सामान्य ज्ञान सुधारना पड़ेगा। देश के चार सबसे बड़े शहर कोलकाता, दिल्ली, चेन्नई, बंगलौर और मुंबई तब तक काफी पीछे छूट चुकेंगे। क्षेत्रफल के लिहाज से यमुना एक्सप्रेस-वे को सबसे बड़ा शहर बनाने की तैयारियां परवान चढ़ रही हैं। न सिर्फ आकार, बल्कि सुविधाओं और योजनाओं के लिहाज से भी यमुना एक्सप्रेस वे देश के पांच सबसे बड़े महानगरों से बहुत आगे होगा। यमुना एक्सप्रेस वे शहर के मास्टर प्लान को अंतिम रूप देने में जुटा ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण शहर को देश के कई हिस्सों से सीधे जोड़ने पर सबसे ज्यादा जोर दे रहा है। नोएडा व ग्रेटर नोएडा शहर में जो कमियां रह गई, उन्हें यहां शुरुआती दौर में दूर किया जा रहा है। दो चरणों में शहर का विकास होगा और पहले चरण का मास्टर प्लान दो माह के अंदर तैयार हो जाएगा। छह माह बाद दूसरे चरण का मास्टर प्लान तैयार होगा।

2031 तक यह शहर हकीकत होगा। यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे छह जिलों के 1187 गांवों को मिलाकर शहर बसाया जा रहा है। इस प्रस्तावित शहर का क्षेत्रफल 2,689 वर्ग किमी है। शहर की सबसे बड़ी खासियत कनेक्टिविटी होगी। चारों मेट्रोपोलिटनशहर सदियों पुराने हैं। बेहतर कनेक्टिविटी में सदियों लग गए। मगर यमुना शहर की नींव रखने के साथ ही अन्य शहरों से जोड़ने की योजना तैयार कर ली गई। राजधानी दिल्ली से सीधे जोड़ने के लिए ग्रेटर नोएडा से आगरा तक 165 किमी लंबा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य चल रहा है। ग्रेटर नोएडा से बलिया तक गंगा एक्सप्रेस-वे। हरिद्वार से ग्रेनो तक अपर गंगा कैनाल एक्सप्रेस। दिल्ली व एनसीआर को जोड़ने के लिए इस्टर्न पैरीफेरल हाइवे।

दिल्ली मुंबई इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर के बराबर 1483 किमी लंबा रोड प्रस्तावित है। इससे यह शहर गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश व हरियाणा से सीधे जुड़ जाएगा। शहर के बीचों बीच 130 मीटर चौड़ी सड़क तो चारों ओर 120 मीटर चौड़ा रिंग रोड होगी। अंदर की कोई भी सड़क 100 मीटर से कम नहीं होगी। यमुना एक्सप्रेस-वे के बराबर मेट्रो भी प्रस्तावित है। जेवर के पास दस हजार हेक्टेयर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट व एविएशन हब प्रस्तावित है। एयरपोर्ट की योजना परवान चढ़ी तो शहर अंतरराष्ट्रीय हवाई मार्ग से भी जुड़ जाएगा। भारत के चार प्रमुख शहरों में दिल्ली का 1438 वर्ग किमी, कलकत्ता का 1480 वर्ग किमी, चेन्नई का 176 वर्ग किमी और मुंबई का 440 वर्ग किमी क्षेत्रफल है। [Jagran]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*