सरकार चला रही है तबादला उद्योग : मौर्य

प्रदेश में बड़ी संख्या में हो रहे तबादलों को बसपा ने राजनीतिक रंग देना शुरू कर दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने शुक्रवार को कहा कि तबादलों के नाम पर सरकार धन उगाही कर रही है। इसे एक उद्योग की तरह चलाया जा रहा है।

पत्रकारों से बात करते हुए स्वामी प्रसाद ने कहा कि सपा सरकार स्मारकों, पार्को, उद्यानों व अन्य कार्यो में घोटाला का हवाला देकर जनता को दिग्भ्रमित करने का प्रयास कर रही है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि तबादलों के पीछे चल रहे खेल पर लोगों का ध्यान न जाए। सूबे में 90 फीसदी आइएएस, आइपीएस, पीसीएस, पीपीएस और अभियंताओं बदले जा चुके हैं। इनमें पचास फीसदी अधिकारियों की तैनाती दो ढाई महीने के भीतर ही कई-कई बार बदली गई। इसी क्रम में 42 हजार पुलिसकर्मियों का तबादला भी किया गया। इससे सपा नेताओं ने करोड़ों की धन उगाही की।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि स्थानांतरण नीति के तहत अधिकतम पंद्रह प्रतिशत अधिकारियों को हटाने की व्यवस्था है। आजादी के बाद से अब तक इतनी बड़ी संख्या में स्थानांतरण नहीं किए गए। इसके पीछे करोड़ों रुपये कमाने की मंशा तो रही ही, अनुसूचित जाति, जनजाति के अधिकारियों को ‘पनिशमेंट पोस्टिंग’ देकर उनका उत्पीड़न भी किया गया। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की शिफ्टिंग में सरकार को करोड़ों रुपये का नुकसान अलग से उठाना पड़ा है। उन्होंने मुख्यमंत्री को सुझाव दिया कि वे तबादलों में भेदभाव रोकें और प्रदेश को कंगाली के रास्ते पर ले जाने से बचाएं।

स्वामी प्रसाद ने कहा कि सपा सरकार के गठन के बाद से प्रदेश में सारे विकास कार्य ठप पड़ गए हैं। गुंडाराज को बढ़ावा मिल रहा है। पेट्रोल में मूल्यवृद्धि के एक सवाल पर कहा कि केंद्र सरकार ने हमेशा जनता के हितों की उपेक्षा की है [Jagran]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*