खत्म होगी नोएडा एक्सटेंशन की टेंशन

नोएडा एक्सटेंशन के निवेशकों के लिए खुशखबरी है। ग्रेटर नोएडा के मास्टर प्लान 2021 पर विचार करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी परिक्षेत्र (एनसीआर प्लानिंग बोर्ड) की बैठक 26 मार्च को होगी। माना जा रहा है कि प्लानिंग बोर्ड से मास्टर प्लान को मंजूरी मिल सकती है। बोर्ड की हरी झंडी मिल गई तो नोएडा एक्सटेंशन में पांच माह से बंद पड़ा बिल्डरों का निर्माण फिर से शुरू हो जाएगा। नोएडा एक्सटेंशन के जमीन विवाद पर इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 21 अक्टूबर के फैसले में किसानों को 64.7 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा व अर्जित भूमि की एवज में दस प्रतिशत जमीन देने के निर्देश दिए थे। साथ ही कोर्ट ने मास्टर प्लान 2021 को एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने मंजूर मिलने तक निर्माण कार्य बंद रखने, मकानों का कंप्लीशन देने व भूखंडों की रजिस्ट्री पर रोक लगा दी थी। इसके बाद से नोएडा एक्सटेंशन में ग्रुप हाउसिंग सोसायटियों का निर्माण कार्य बंद है। अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा व स्वर्णनगरी को छोड़कर बाकी सेक्टरों में भी कोर्ट के आदेश के बाद भूखंडों की रजिस्ट्री व मकानों के कंप्लीशन पर रोक लगा दी गई थी।

प्राधिकरण के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एनसीआर प्लानिंग बोर्ड की 26 मार्च को दिल्ली में बैठक होगी। इसमें ग्रेटर नोएडा के मास्टर प्लान 2021 को मंजूरी के लिए रखा जाएगा। बोर्ड ने हरी झंडी दे दी तो नोएडा एक्सटेंशन पर छाए बादल के संकट कुछ हद तक छट जाएंगे। अन्य सेक्टरों में भी मकानों के कंप्लीशन व भूखंडों की रजिस्ट्री का काम शुरू हो जाएगा। शासन ने मूल आवंटियों को संपत्तियों की रजिस्ट्री आवंटन दर पर कराने की छूट 31 मार्च तक दे रखी है। इसके बाद डीएम सर्किल रेट पर स्टांप शुल्क देना पड़ेगा। मास्टर प्लान को स्वीकृति न मिलने की वजह से आवंटी छूट का फायदा नहीं उठा पा रहे हैं| [Jagran]

One comment

  1. koi bhi acha kam karne par bura hi dekhane ko milta hai. ye india ka rule hai jiski wajah se 21 ni 19 sadi me jee rahe hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*