Breaking News
You are here: Home / National / SP supporters damage Mayawati’s statue in Lucknow

SP supporters damage Mayawati’s statue in Lucknow

SP supporters  damaged a statue of sister  Mayawati at the Ambedkar Park in Lucknow’s Gomtinagar area.

According to reports, the mob reached the park around 1:30 pm on bikes with hammers and other tools and started damaging the statue.
Attackers Amit  broke the hands and the head of the statue.

During a press conference, SP supporters Amit  on Thursday said that the Samajwadi Party (SP) -led state government should remove the statues of the Bahujan Samaj Party (BSP) supremo from Lucknow and Noida within 72 hours.

The leaders said they would remove the statue if the government failed to do it.

“Either the Samajwadi Party government will remove all Mayawati statues within 72 hours from Lucknow and Noida, or we will do it ourselves,” said a Sena spokesperson.

 Senior police officials and BSP leaders rushed to the spot immediately after the incident.

Large number of police personnel have been deployed in and around the area.

Security has been increased in other Dalit memorials in Lucknow as well.

BSP leader Swami Prasad Maurya alleged that the state government is responsible for the attack.

“It is the Samajwadi Party government behind the incident,” Maurya told media.

However, Mayawati has reportedly urged his party workers to ´stay calm´.

About YourMKBharti

Please follow us

One comment

  1. यह एक बहुत ही शर्मनाक घटना है जिन लोंगों न्र यह काम किया है उनपर देस द्रोह का मुक़दमा चलना चाहिए. और कड़ी से कड़ी सज़ा दी जानी चाहिए. ऐसा कान्हा लिखा है की जिंदा ब्यक्ति की मूर्ति नही लगनी चाहिए. और अगर कन्हि लिखा बी है तो उसको मानना ज़रूरी तो नही. हुमारे देश मे हज़ारों मंदिर है और वान्हा लाखों मे मूर्तियाँ लगी है. हम ऐसा कहते है है की भगवान जिंदा है अमर है तो फिर उनकी मूर्तिया क्यूँ लगी है. उनका भी वही हस्र होना चाहिए जो मायावती की मूर्ति का हुआ. वैसे भी देश मे लाखो मंदिर है और उनमे अरबों की मूर्तिया लगी है उन सबको लगाने के लिए पैसा कान्हा से आया कोई बताने का कास्ट करेगा क्या वो जनता का पैसा नही है. उसी पैसे का इस्तेमाल ग़रीबों की भलाई के लिए क्यूँ नही किया गया? मायावतीजी ग़रीबों के लिए भगवान है उन्होने जो काम किया आज तक कोई भी नही कर सका. गाँधी नेहरू राजीव इन्द्रा इन लोंगों के नाम पर कितनी मूरिया देश मे लगी है वो किसके पैसे से लगी है?

Scroll To Top